श्रद्धांजलि आलेख ‘यू आर अनन्तमूर्ति : लेखक के साथ-साथ एक सक्रिय एक्टिविस्ट भी’

यू आर अनन्तमूर्ति : लेखक के साथ-साथ एक सक्रिय एक्टिविस्ट भी ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता कर्नाटक के मशहूर लेखक यू आर अनंतमूर्ति नहीं रहे। शुक्रवार को बेंगलूरू के एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। वह 81 वर्ष के थे। राजधानी के मणिपाल अस्तपताल मे भर्ती अनंतमूर्ति के सभी अंगों ने काम करना बंद कर दिया […]

संतोष चतुर्वेदी के संग्रह ‘दक्खिन का भी अपना पूरब होता है’ पर आचार्य उमाशंकर सिंह परमार की समीक्षा

आज उमाशंकर सिंह परमार का जन्मदिन है। आज के दिन उन्होंने पहली बार पर लगाने के लिए एक समीक्षा भेजी जो मेरे ही नवीनतम संग्रह पर है। शुरूआती एक-दो पोस्टों के बाद आम तौर पर अपने ही ब्लॉग पर मैं अपनी कविताएँ और समीक्षा देने से बचता रहा हूँ. लेकिन आज उमाशंकर के आग्रह को […]

सन्तोष कुमार चतुर्वेदी

पिछले रविवार को हमारी राजधानी दिल्ली में एक तेईस वर्षीया पैरामेडिकल छात्रा के साथ जिस तरह की शर्मनाक घटना घटी वह हतप्रभ कर देने वाली थी। आखिर किस सीमा तक हम संवेदनहीन हो सकते हैं। किस सीमा तक हमारा पतन हो सकता है। दरिन्दगी किस सीमा तक बरदाश्त की जा सकती है? क्या वाकई परिस्थितियॉ […]

संतोष कुमार चतुर्वेदी

 मित्रो, अपनी एक तरोताजी रचना के साथ मैं आपसे मुखातिब हूँ. कविता कैसी बन पडी है  इस पर आप  के बेबाक सुझावों की हमें उत्सुकता से प्रतीक्षा रहेगी.  संतोष कुमार चतुर्वेदी  घड़ी बहुत जिद्दी है मेरी घड़ी  चाहे जितनी बार मिलाओ इसे किसी दूसरी  घड़ी आकाशवाणी या दूरदर्शन के समय से हर बार यह अपना […]

संतोष कुमार चतुर्वेदी

 भाई  बिमलेश त्रिपाठी ने अपने  ब्लॉग ‘अनहद’  पर मेरी तीन कवितायें अभी हाल ही में  प्रकाशित थीं.   अपनी  उन्हीं कविताओं को  मैं आपसे साझा कर रहा हूँ. इन कविताओं पर आपकी बहुमूल्य एवं बेबाक  प्रतिक्रियाओं का इंतजार तो रहेगा ही। संतोष कुमार चतुर्वेदी पानी का रंग गौर से देखा एक दिनतो पाया कि पानी का भी एक रंग हुआ करता है अलग बात है यह कि नहीं मिल पाया इस रंग को आज तककोई मुनासिब नाम अपनी […]

संतोष कुमार चतुर्वेदी

 संतोष  कुमार चतुर्वेदी चुप्पी एक मानचित्र है चुप्पी जिसे बांटा जा सकता है मनमाने तरीके से लकीर खींच कर चुप्पी गोताखोर की गहरी डुबकी है उफनते समुद्र में जिसके बारे में नहीं बता सकता किनारे पर खड़ा कोई व्यक्ति कि अचानक कहाँ से निकल पड़ेगा गोताखोर चुप्पी किसी डायरी का कोरा पन्ना है जिस पर मन की सियाही से चित्रकारी की जा सकती […]