युवा कवि और आलोचक शिरीष कुमार मौर्य से अनिल कार्की की बातचीत

लीक से अलग हट कर काम करने वाले युवा रचनाकारों में शिरीष कुमार मौर्य का नाम अग्रणी है. कविता और आलोचना के साथ-साथ शिरीष ने कला के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण काम किये हैं. शिरीष से उनके रचना कर्म पर बात की है युवा रंगकर्मी अनिल कार्की ने. तो आईए पढ़ते हैं यह साक्षात्कार     युवा […]

शिरीष कुमार मौर्य की 15 नई कविताएं

साहित्य की जो सबसे बड़ी खूबी है वह यही है कि वह हर समय में शोषण और अत्याचार के खिलाफ खड़ा रहता है. सत्ता जो एक मद जैसा होता है, उसको उसकी सीमा का अहसास यह साहित्य ही कराता है. यह इसलिए भी काबिलेगौर है कि अभी-अभी हुए आम चुनावों में मीडिया (जिसे अब तक […]

वीरेन डंगवाल पर शिरीष कुमार मौर्य का आलेख

वीरेन डंगवाल हमारे समय के महत्वपूर्ण और अपनी तरह के अनूठे कवि हैं। व्यवहार का उनका फक्कड़ाना अंदाज उनकी कविताओं में भी स्पष्ट तौर दिखायी पड़ता है। मुक्त छंद की कवितायें हो कर भी छंद में ऐसी बिधी हुई कि जुबान पर सहज ही चढ़ जाती हैं। वीरेन दा की कविताओं पर एक समग्र पड़ताल करने […]

शिरीष कुमार मौर्य

शिरीष कुमार मौर्य हमारे समय के महत्वपूर्ण कवियों में से एक हैं। आज की कविता का अगर कोई वितान बनाना हो तो शिरीष के बिना एक तो वह बनेगा ही नहीं और अगर तब भी बनाने की किसी ने कोई कोशिश की तब वह निश्चित तौर पर अधूरा होगा। बिना किसी शोरोगुल के शिरीष लगातार […]