गोपी कृष्ण गोपेश की किताब ‘विदेशों के महाकाव्य की शम्सुर्रहमान फारूकी द्वारा लिखी गयी भूमिका

गोपी कृष्ण गोपेश का जन्म 11 नवम्बर 1925 को हुआ था। इन्होने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एम. ए. करने के पश्चात शोध कार्य किया। ‘किरण’, ‘धूप की लहरें’ (गीत-संग्रह); ‘तुम्हारे लिए’ (कविता संग्रह); ‘अर्वाचीन और प्राचीन से परे’ (रेडियो नाटक); ‘सोने की पत्तियां’ (विविध रचना संग्रह) शोलोखोव के विश्व-प्रसिद्द उपन्यास ‘तीखी दोन’ के 4 खंडों के […]