राकेश रोहित का आलेख संवेदनाओं के द्वीप और विभ्रम की उलझनें

राकेश रोहित किसी भी कवि की वास्तविक पहचान उसके गद्य से होती है. कवियों द्वारा गद्य लिखने की हमारे यहाँ एक समृद्ध परम्परा रही है. निराला हों, मुक्तिबोध या फिर नागार्जुन सबने कविताओं के साथ-साथ प्रचुर गद्य भी लिखा है. यह परम्परा हमारे समय में भी कायम है. इसी क्रम में युवा कवि राकेश रोहित […]

विमलेश त्रिपाठी के उपन्यास “कैनवास पर प्रेम” पर वैभव मणि त्रिपाठी की समीक्षा।

कवि एवं कहानीकार विमलेश त्रिपाठी का भारतीय ज्ञानपीठ से “कैनवास पर प्रेम” नामक उपन्यास प्रकाशित हुआ है। इस उपन्यास की एक बेबाक समीक्षा लिखी है वैभव मणि त्रिपाठी ने। आईए पढ़ते हैं यह समीक्षा।       एक सुन्दर कोलाज सरीखी रचना कैनवास पर प्रेम वैभव मणि त्रिपाठी  एक कुशल नट अपने खेल में हर […]

केदारनाथ सिंह पर विमलेश त्रिपाठी का आलेख ‘केदारनाथ सिंह का जीवन और सृजन-संघर्ष’

पिछले दिनों वरिष्ठ कवि केदार नाथ सिंह को 49 वाँ ज्ञानपीठ सम्मान देने की घोषणा की गयी. कहना न होगा कि केदार जी हिन्दी के महत्वपूर्ण कवियों में से एक हैं. राजधानी दिल्ली में रहते हुए भी गंवई जीवन से उनका जुड़ाव आज भी बना हुआ है. बातचीत में भी भोजपुरी बोलने के लिए हम […]

विमलेश त्रिपाठी के कविता संग्रह ‘एक देश और मरे हुए लोग’ पर मिथलेश शरण चौबे की समीक्षा

सुपरिचित युवा कवि-कहानीकार विमलेश त्रिपाठी का बोधि प्रकाशन से हाल ही में एक नया कविता संग्रह आया है- ‘एक देश और मरे हुए लोग’. इस संग्रह पर एक समीक्षा लिख भेजी है युवा कवि मिथलेश शरण चौबे ने, तो आईए पढ़ते हैं यह समीक्षा – ‘सबसे कम आदमी रह जाने की होड़ के विरुद्ध’ सबसे […]

विमलेश त्रिपाठी

बक्सर, बिहार के एक गांव हरनाथपुर में जन्म (7 अप्रैल 1979 मूल तिथि)। प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही।प्रेसिडेंसी कॉलेज से स्नातकोत्तर, बीएड, कलकत्ता विश्वविद्यालय में शोधरत।देश की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में कविता, कहानी, समीक्षा, लेख आदि का प्रकाशन।सम्मानसांस्कृतिक पुनर्निर्माण मिशन की ओर से काव्य लेखन के लिए युवा शिखर सम्मान।भारतीय ज्ञानपीठ का नवलेखन पुरस्कार, सूत्र […]

विमलेश त्रिपाठी

  विमलेश का जन्म 7 अप्रैल १९७७ को  बिहार के बक्सर जिले के हरनाथपुर नामक गाँव में हुआ.प्रारंभिक शिक्षा गांव में ही । प्रेसिडेंसी कॉलेज से स्नातकोत्तर, कलकत्ता विश्वविद्यालय में शोधरत। “हम बचे रहेंगे” कविता संग्रह नयी किताब, दिल्ली से शीघ्र प्रकाश्य। देश की लगभग सभी पत्र-पत्रिकाओं में कविता, कहानी, समीक्षा, लेख आदि का प्रकाशन। “हम […]