सुमन कुमार सिंह

                               (सुमन कुमार सिंह) भोजपुरी कवि रामजियावन दास बावला पर प्रस्तुत है सुमन कुमार सिंह का भोजपुरी में दूसरा आलेख लोकानुरागी कवि रामजियावन दास बावला अब त इहे कहे के परी कि ‘ एगो कवि रहलन!’ हँ ऽऽ अब बावला जी के बारे में इहे कहल जाई। 1 मई, 2012 के उहाँ के निधन भ गइल। […]

बलभद्र

अभी हाल ही में भोजपुरी के एक सशक्त कवि राम जियावन दास बावला का निधन हो गया. लेकिन उनपर कहीं न तो कोई चर्चा हुई या आलेख ही प्रकाशित हुआ. हमने इस सिलसिले में कुछ महत्वपूर्ण लेखकों से बात की जो स्वयं भोजपुरी में ही गंभीर कार्य करने में जुटे हुए हैं. इसी सिलसिले में […]

राम जियावन दास बावला.

शुभ शुभ, शुभ नया साल हो. बासल बयार ऋतुराज के सनेस देत गोरकी चननिया के अचरा गुलाल होखेत खरीहान में सिवान भर दाना-दाना चिरई के पुतवो न कतहु कंगाल होहरियर धनिया चटनिया टमटरा के मटरा के छीमीया के गदगर दाल हो नया नया भात हो सनेहिया के बात हो की एही बिधि शुभ शुभ, शुभ नया साल हो सोहन लाल […]