इलाहाबाद कार्यशाला की रपट – प्रस्तुति : बजरंग बिहारी

  जनवादी लेखक संघ द्वारा एक से तीन अक्टूबर 2016 को इलाहाबाद में एक राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला में विशेषज्ञों ने ‘वर्ग, जाति तथा जेंडर’ विषय पर अपने महत्वपूर्ण विचार प्रस्तुत किए। देश भर से आए प्रतिभागियों ने अपने सवाल विशेषज्ञों के सामने रखे जिसके जवाब के क्रम में कई महत्वपूर्ण […]

रश्मि भारद्वाज की रपट ‘मन के घेराव से निकल कर ही संभव है रचना-कर्म!’

महेश चन्द्र पुनेठा पिछले वर्ष पिथौरागढ़ में ‘लोकविमर्श शिविर-1’ का आयोजन कवि महेश चन्द्र पुनेठा के आतिथ्य में देवलथल गाँव में सम्पन्न हुआ था। आज महेश चन्द्र पुनेठा का जन्मदिन है। वे न सिर्फ एक उम्दा कवि और आलोचक हैं बल्कि एक बेहतर इंसान भी हैं। जो भी इस ‘लोकविमर्श शिविर’ में शामिल हुआ वह […]

बांदा कार्यशाला (2-4 अक्टूबर, 2015 ) की रपट

बाँदा के बड़ोखर खुर्द गाँव में बीते 2 से 4 अक्टूबर, 2015 के बीच ‘आंबेडकरवाद और मार्क्सवाद : पारस्परिकता के धरातल‘ विषय पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन किया गया था। इस कार्यशाला में देश भर से आये प्रतिभागियों ने भाग लिया था। इस कार्यशाला की रपट का पहला भाग आप पिछले महीने पढ़ […]

जलेस की बांदा कार्यशाला

विगत 2 क्टूबर से 4 अक्टूबर 2015 के बीच उत्तर प्रदेश के बाँदा के एक गाँव बडोखर खुर्द में ‘अम्बेडकरवाद और मार्क्सवाद की साझा जमीन पर एक राष्ट्रीय कार्यशाला आयोजित की गयी. तीन दिनों की इस कार्यशाला में विशेषज्ञों ने अपने महत्वपूर्ण विचार रखे और प्रतिभागियों ने उन विचारों पर गर्मागर्म बहसें कीं. इस कार्यशाला […]

विजेंद्र की कविता पर हुई एक गोष्ठी की रपट

हाल ही में “कवि  विजेंद्र की  कविता और  आज  के समय में  कविता की जरुरत ” विषय  पर  लखनऊ  में  एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस गोष्ठी की एक रपट हमें भेजी है अशोक चन्द्र ने। प्रस्तुति आशीष सिंह की है। तो आइए पढ़ते हैं इस गोष्ठी  की यह रपट” विजेन्द्र  की  सतत  अग्रगामी […]

‘विविध संवाद’ के मधुरेश पर केन्द्रित विशेष अंक के लोकार्पण की एक रपट

 बरेली से प्रकाशित होने वाली पत्रिका ‘विविध संवाद’ का सौंवा अंक हाल ही में प्रकाशित हुआ है। यह अंक इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि इसे वरिष्ठ समालोचक मधुरेश जी पर केंद्रित किया गया है। इसका सम्पादन किया है हमारे मित्र और लेखक रणजीत पांचाले ने। इसी अंक का विगत 16 नवम्बर को विमोचन और लोकार्पण किया […]

डॉ० राका प्रियंवदा की रपट

  12 अक्टूबर 2014, को नटराज एवं सांस्कृतिक संस्थान, 346 बिहारीपुर कहरवान में संयोजक संजय सक्सेना ने प्रख्यात समालोचक डॉ० रामविलास शर्मा की 102वीं जयन्ती के अवसर पर विचार-गोष्ठी का आयोजन अपने आवास पर किया। इस गोष्ठी की एक रपट पहली बार के लिए हमें भेजा है ने डॉ० राका प्रियंवदा ने। आइए पढ़ते हैं […]

कोरे यथार्थ से नहीं बनती कहानी

                                  बहुत दिनों बाद आज एक बार फिर ठेठ जनवादी तरीके से जलेस की गोष्ठी का आयोजन एक दिसंबर २०१३ को इलाहाबाद के नया कटरा के समया माई पार्क में किया गया। आयोजन में युवा कहानीकार शिवानन्द मिश्र ने अपनी कहानी ‘लौट आओ भईया’ का पाठ किया। इसके पश्चात् शहर के साहित्यकारों और संस्कृतिकर्मियों ने […]

भंवरलाल मीणा की रपट

                                                                          (चित्र: पंकज पराशर)  सुचिंतित दृष्टि और सुगठित गद्य कृति-पुनर्वाचनः नामवर सिंह (जे एन यू में पुस्तक का लोकार्पण […]