मृदुला शुक्ला की कविताएँ

मृदुला शुक्ला प्रेम की नयी परिभाषा गढ़ने वाली कवियित्री हैं. इनका मानना है कि प्रेम तो बस प्रेम ही है. सबसे अलहदा. सबसे निश्चिंत लेकिन दुश्वारियों से भरा हुआ.  इसलिए बदलते समय को धता बताते हुए वे एक कवि मूल्य स्थापित करते हुए कहती हैं ” ‘प्रेम में भी’ पात्रता से ज्यादा/ न लिया जाता […]