मुकेश मानस की कहानी ‘चींजे जब लौटती हैं’

किसी भी कहानीकार के लिए मिथक एक चुनौती की तरह होते हैं। पीढ़ी दर पीढ़ी चलते आ रहे इन मिथकों से आज के सन्दर्भ को जोड़ते हुए कोई कृति लिखना आसान काम नहीं। मुकेश मानस ने अपनी  कहानी  ‘चीजें जब लौटती हैं’ में हमारे प्राचीन मिथक को आधुनिक सन्दर्भों से भलीभांति जोड़  कर  यह  साबित  […]