जितेन्द्र श्रीवास्तव के कविता संग्रह ‘कायान्तरण’ पर मनीषा जैन की समीक्षा

जितेन्द्र श्रीवास्तव युवा कविता में एक सुपरिचित नाम है. अभी-अभी उनका एक और कविता संग्रह ‘कायान्तरण’ आया है. इस संग्रह की समीक्षा कर रही हैं युवा कवियित्री मनीषा जैन. तो आईए पढ़ते हैं यह समीक्षा   कायान्तरण से आगे आत्मान्तरण की कविताएं मनीषा जैन कविता का स्वभाव जहां सरल, कोमल व शांत होता है वहीं वह […]

मनीषा जैन की कविताएँ

नाम- मनीषा जैनजन्म- 24 सितम्बर, 1963 मेरठ उ.प्र.शिक्षा- बी. ए दिल्ली विश्वविद्यालय,    एम. ए. हिन्दी साहित्यप्रकाशित रचनाएं- एक काव्य संग्रह प्रकाशित ‘‘रोज गूंथती हूं पहाड़’’।            नया पथ, कृति ओर, अलाव, वर्तमान साहित्य, मुक्तिबोध, बयान, साहित्य भारती, जनसत्ता, रचनाक्रम, जनसंदेश, नई दुनिया, अभिनव इमरोज,युद्धरत आम आदमी आदि पत्र-पत्रिकाओं में कविताएं, आलेख, समीक्षायें प्रकाशित हताशाओं […]

मनीषा जैन के कविता संग्रह ‘रोज गूंथती हूं पहाड़’ पर बली सिंह की समीक्षा

कवियित्री मनीषा जैन का बोधि प्रकाशन से हाल ही में एक संग्रह आया है ‘रोज गूंथती हूं पहाड़.’ अपने इस संग्रह में मनीषा जैन ने बिना किसी शोरोगुल के स्त्री जीवन के यथार्थ को सामने रखने का सफल प्रयत्न किया है. इसीलिए यह संग्रह और संग्रहों से कुछ अलग बन पड़ा है. इस संग्रह की […]