भाविनी त्रिपाठी की कहानी ‘नेवले’

भाविनी त्रिपाठी भाविनी त्रिपाठी बी टेक द्वितीय वर्ष की छात्रा हैं। उनमें गहरे साहित्यिक संस्कार भरे हुए हैं। उनकी कहानियाँ पढ़ कर आप सहज ही इसका अंदाजा लगा सकते हैं कि भाविनी में भविष्य का एक संभावनाशील रचनाकार संचित है। ‘नेवले’ कहानी के माध्यम से भाविनी ने उन तत्वों को उजागर करने की कोशिश किया […]

भाविनी त्रिपाठी की लघु-कथा ‘तस्वीर’

साहित्यकार की चौकस निगाहें चारों तरफ रहती हैं। न जाने कौन सी घटना उसे अपने लिखे जाने के लिए बेचैन कर दे। अभी हाल ही में सोलह दिसंबर को पूरी दुनिया तब स्तब्ध रह गयी जब तालिबानी आतंकवादियों ने पेशावर के आर्मी स्कूल पर धावा बोल कर 132 मासूम बच्चों को मार डाला। समूचे विश्व […]

भाविनी त्रिपाठी की लघु कहानी विडम्बना

बालपन से ही लड़कियों को यह एहसास हो जाता है कि वे इस दुनिया में बिल्कुल अलग हैं। समाज जैसे नचाये उन्हें नाचना है। उन्हें कोई सवाल नहीं करना है बल्कि सवालों के जवाब देना है। भाविनी अभी बी टेक की छात्रा हैं लेकिन इनकी रचनात्मक निगाह ने बड़ी सूक्ष्मता से स्त्री जीवन की विडम्बना […]

भाविनी त्रिपाठी

भाविनी त्रिपाठी का जन्म 1995 में इलाहाबाद में हुआ। भाविनी इंटरमीडिएट की छात्रा हैं। अंगरेजी माध्यम में पढाई होने के बावजूद भाविनी हिन्दी में कविताएँ और लघुकथाएँ लिखती हैं।भाविनी त्रिपाठी ने अपनी ये लघुकथाएं अपने पितामह स्वर्गीय पं राम अधार तिवारी को समर्पित की हैं। जिनसे कि भाविनी ने लिखने की प्रेरणा प्राप्त की। अभी हाल ही […]