भगवत रावत: एक बार फिर आऊँगा

  ‘अनहद’ जनवरी २०१२ अंक में समालोचन स्तंभ के अंतर्गत कवि भगवत रावत पर आलेख और उनकी नवीनतम कविता प्रस्तुत की गयी थी. भगवत दादा की कविता आप पहले ही पढ़ चुके हैं. श्रद्धांजली के क्रम में आज प्रस्तुत है कवि केशव तिवारी का भगवत दादा पर लिखा गया आलेख.    केशव तिवारी भगवत रावत […]

भगवत रावत

२५ मई २०१२ का मनहूस दिन. हम सबके अजीज कवि भगवत रावत आज नहीं रहे. हमारे अग्रज कवि मित्र केशव तिवारी ने जब यह सूचना मुझे दी तो मैं हतप्रभ रह गया. विगत कई वर्षों से जिस जीवट से वे जिंदगी के लिए मौत से जूझ रहे थे वह अप्रतिम था और इसीलिए जब यह […]