प्रेमचन्‍द गांधी

तमाम प्रतिकूल परिस्थितियों से जूझती हुई यह ‘स्त्री की अदम्य जिजीविषा’ ही है जिसने हमारी दुनिया को इस कदर खूबसूरत बनाए रखा है। लेकिन सवाल यह है कि उसकी जिजीविषा की तह में कितने लोग झाँक पाते हैं? यह कवि है जो इस दुनिया में शिद्दत से प्रवेश करता है। और देखता है कि कैंसर के रोग से […]