ज्योति चावला की कहानी ‘सुधा बस सुन रही थी’

ज्योति चावला का नया कहानी संग्रह ‘अँधेरे की कोई शक्ल नहीं होती’ आधार प्रकाशन से प्रकाशित हुआ है. ज्योति अपनी कहानियों के माध्यम से अपने समय और समाज के सच को बेबाकी से उद्घाटित करती हैं. कहानी कहने का ढंग भी कुछ इसी तरह का कि पाठक लगातार उसमें डूबता चला जाता है. यही नहीं […]

ज्योति चावला

  5 अक्टूबर 1979 को दिल्ली में जन्म। युवा पीढ़ी में कहानी और कविता के क्षेत्र में में महत्वपूर्ण नाम। कविताएं सभी प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में नियमित और प्रमुखता से प्रकाशित। कविताओं का पंजाबी, मराठी, अंग्रेजी और ओडि़या में अनुवाद। कई पत्रिकाओं में कविताओं की विशेष रूप से प्रस्तुति। अभी तक पांच कहानियां प्रगतिशील वसुधा, रचना […]

ज्योति चावला

5 अक्टूबर 1979 को दिल्ली में जन्म। युवा पीढ़ी में कहानी और कविता के क्षेत्र में महत्वपूर्ण नाम। कविताएं सभी प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में नियमित और प्रमुखता से प्रकाशित। कविताओं का पंजाबी, मराठी और उड़िया में अनुवाद। कई पत्रिकाओं में कविताओं की विशेष रूप से प्रस्तुति। अभी तक पांच कहानियां प्रगतिशील वसुधा, रचना समय और नया […]

ज्योति चावला

ज्योति  चावला ज्योति चावला का जन्म ५ अक्टूबर १९७९ को दिल्ली में हुआ. नया ज्ञानोदय, आलोचना, वागर्थ, प्रगतिशील वसुधा, परिकथा, पाखी आदि पत्र पत्रिकाओं में कवितायेँ एवं कहानियाँ प्रकाशित हुई हैं. ज्योति ने ‘पीपुल्स पब्लिशिंग हाउस’ से प्रकाशित ‘श्रेष्ठ हिंदी कहानियां’ (१९९०-2000) का संपादन भी किया है. इनका पहला कविता संकलन शीघ्र ही आने वाला है. […]