जितेन्द्र श्रीवास्तव के कविता संग्रह ‘कायान्तरण’ पर मनीषा जैन की समीक्षा

जितेन्द्र श्रीवास्तव युवा कविता में एक सुपरिचित नाम है. अभी-अभी उनका एक और कविता संग्रह ‘कायान्तरण’ आया है. इस संग्रह की समीक्षा कर रही हैं युवा कवियित्री मनीषा जैन. तो आईए पढ़ते हैं यह समीक्षा   कायान्तरण से आगे आत्मान्तरण की कविताएं मनीषा जैन कविता का स्वभाव जहां सरल, कोमल व शांत होता है वहीं वह […]

जितेन्द्र श्रीवास्तव

जितेन्द्र श्रीवास्तव का जन्म उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले की रूद्रपुर तहसील के सिलहटा में हुआ. जे. एन यू नयी दिल्ली से हिन्दी साहित्य में सर्वोच्च अंकों से एम. ए. और एम. फिल. एवं पी-एच. डी. कविता संग्रह- इन दिनों हालचाल, अनभै कथा, असुंदर-सुन्दर, बिलकुल तुम्हारी तरह, कायांतरण, आलोचना- भारतीय समाज, राष्ट्रवाद और प्रेमचंद, शब्दों […]