गीता पण्डित की कहानी ‘विदआउट मैन’।

गीता पण्डित विवाह संस्था को ले कर समय-समय पर सवाल उठते रहे हैं। शताब्दियों पहले अस्तित्व में आयी इस संस्था का कोई विकल्प फिलहाल आज तलक नहीं मिल पाया है। नए जमाने का ‘लिव इन रिलेशन’ अभी तक कोई ख़ास उम्मीद नहीं जगा पाया है। हमारा रुढ़िवादी समाज इसके बाहर जा कर सोचने लायक अभी […]

गीता पण्डित की कविताएँ

गीता पण्डित गौतम का यशोधरा को यूँ सोते छोड़ कर घर से चले जाने वाला प्रसंग मुझे हमेशा से परेशान करता रहा है। गीता पण्डित ऐसी समर्थ कवयित्री हैं जिन्होंने इस मुद्दे को अपनी कविता का विषय बनाया है। शायद इसलिए भी कि एक स्त्री दूसरी स्त्री के मर्म को बेहतर तरीके से जानती-समझती है। […]