‘कृति ओर’ (65-66) के ‘पूर्वकथन’ पर आशीष कुमार सिंह की टिप्पणी

विजेन्द्र जी का व्यक्तित्व बहुआयामी है। वे ‘कृति ओर’ पत्रिका में अपने पूर्वकथन के लिए भी जाने जाते हैं। इसमें वे अपने बेबाक विचार तत्कालीन समाज राजनीति और साहित्य के मद्देनजर रखते हैं। ‘कृति ओर’ का अधिकांश पाठक वर्ग इसकी प्रतीक्षा ‘पूर्व कथन’ के लिए करता है। इसी ‘पूर्व कथन’ पर हमारे युवा साथी आशीष […]