अनिल जनविजय का आलेख ‘लेफ़ तलस्तोय की प्रेम कहानी’

लेफ़ तलस्तोय प्रेम मानव जीवन की सघनतम अनुभूति है। शारीरिक से ज्यादा मानसिक अनुभूति, जिससे प्रभावित हो हम इसे महसूस ही नहीं करते कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार हो जाते हैं। दुनिया के महानतम लेखकों में से एक लेफ तलस्तोय ने भी एक लडकी से प्रेम किया था। इस प्रेम कहानी पर अनिल […]

अनिल जनविजय द्वारा अनुदित विदेशी कवियों की कविताएँ

konstantin kavafi हाल ही में ‘दुनिया इन दिनों’ पत्रिका की साहित्य वार्षिकी दो खण्डों में प्रकाशित हुई थी. इसके  पहले खण्ड में अनिल जनविजय द्वारा अनुदित कुछ विदेशी कवियों की महत्वपूर्ण कविताएँ प्रकाशित हुईं थीं. हमने इन कविताओं के महत्व को देखते हुए इसे ‘पहली बार’ के पाठकों के लिए प्रस्तुत करने का निश्चय किया. […]

वसीली कामिन्स्की का संस्मरण ‘मायकोवस्की मेरा हमदम, मेरा दोस्त’ (अनुवाद – अनिल जनविजय)

मायकोवस्की लेखकों के बारे में लेखकों के संस्मरणों से बहुत कुछ जानने-समझने का अवसर मिलता है। अनिल जनविजय ने वसीली कामिन्स्की के एक महत्वपूर्ण संस्मरण का हिन्दी अनुवाद किया है। इस संस्मरण में कामिन्सकी ने मायकोवस्की के बारे में कई महत्वपूर्ण तथ्य उद्घाटित किए हैं। आइए पढ़ते हैं वसीली कामिन्स्की का यह महत्वपूर्ण संस्मरण ‘मायकोवस्की […]

अनिल जनविजय द्वारा प्रस्तुत कुछ दुर्लभ फोटोग्राफ्स

फोटो फीचर  अनिल जनविजय अनिल जनविजय ने अपनी फेसबुक वाल पर दुर्लभ फोटोग्राफ्स देने की परम्परा ‘बूझो तो जाने’ की शक्ल में शुरू की थी. अब तो यह काफी लिकप्रिय हो चुकी है. उसी श्रृंखला के कुछ चित्र यहाँ पहली बार के पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं.   मख़दूम मोहिउद्दीन अमरकान्त आग्नेय जी उदय प्रकाश […]

फोटो फीचर : अनिल जनविजय

फोटो फीचर अनिल जनविजय अनिल जनविजय ने अपनी फेसबुक वाल पर इधर रोजाना पहेली के तरीके से कुछ चित्र लगा कर नाम पूछते हैं. इस महत्वपूर्ण सिलसिले में से कुछ चित्र पहली बार के पाठकों के लिए प्रस्तुत है. इस बार फोटो फीचर में कुछ चित्र अन्य मित्रों की फेसबुक वाल से भी साभार लिए […]

अनिल जनविजय द्वारा फेसबुक पर संकलित कुछ अनमोल चित्र

चित्र वीथिका  अनिल जनविजय  अनिल जनविजय ने पिछले दिनों अपने फेसबुक वाल पर चित्रों को पहचानने की एक पहेली शुरू की थी. इस पहेली को बूझने में कई मित्रों ने बड़ी दिलचस्पी  दिखाई। वाकई इसमें कई ऐसे भी चित्र थे जो हम सबके लिए धरोहर की तरह हैं। हमें अपने संस्कृति और साहित्य से जुडी […]

अनिल जनविजय का आलेख ‘कवि मन्देलश्ताम का जीवन’

ओसिप मन्देलश्ताम रुसी कवि ओसिप मन्देलश्ताम को रुसी जनता आज भी उनकी कविताओं के लिए याद करती है। एक तरह से विद्रोही परम्परा का कवि, जो दरअसल प्रेम का कवि था। एक कवि जिसने अपनी प्रतिबद्धता के लिए अपने जीवन तक को दाँव पर लगा दिया। ओसिप मन्देलश्ताम के जीवन पर अनिल जनविजय का एक […]

येव्गेनी येव्तुशेंको की कविताएँ

येव्गेनी येव्तुशेंको केदार नाथ सिंह ने अपनी गद्य की किताब ‘कब्रिस्तान में पंचायत’ में येव्गेनी येव्तुशेंको की कविताओं का जिक्र किया है. ये कविताएँ उन्हें अनिल जनविजय ने उपलब्ध करायीं थीं. केदार जी अपने एक आलेख में कहते हैं कि ख्रुश्चेव के बाद के परिवर्तन की आवाज को येव्तुशेंको की कविताओं में स्पष्ट रूप से […]

कन्सतान्तिन कवाफ़ी

(चित्र : कन्सतान्तिन कवाफ़ी) वरिष्ठ कवि अनिल जनविजय ने यूनानी कवि कन्सतान्तिन कवाफ़ी की कुछ कविताओं के बेहतरीन अनुवाद किए हैं।  पहली बार के पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं ये कविताएँ।  आशा है,  ये कविताएँ आप सब को पसन्द आएँगी।  सीढ़ियों पर उन बदनाम सीढ़ियों से नीचे उतर रहा था जबतभी पल भर को झलक देखी […]